२४ ते ४८ तासात नाशिक सह राज्यात पुन्हा जोरदार पावसाची शक्यता

येत्या २४ ते ४८ तासात नाशिक, पुणे , विधार्भासोबत राज्यात जोरदार पावसाची शक्यता स्कायमेट ने वर्तवली आहे. अरबी समुद्रात तयार झालेल्या क्यार वादळामुळे हा अवकाळी पाऊस राज्यात सुरु असून, याचा सर्वात मोठा फटका शेतकरी वर्गाला बसला आहे. दिवाळी सणात शेतकरी वर्ग मोठ्या अडचणीत सापडला आहे. सोबतच पिकांचे नुकसान झाल्याने फार मोठ्या प्रामाणात आर्थिक नुकसान होणार आहे. त्यामुळे हातात आलेले मका, कांदा, भात, सोयाबीन ही पिके नासली आहेत. त्यामुळे मोठे नुकसान झाले आहे.

नाशिक जिल्ह्याचा विचार करता कांदा उत्पादक शेतकरी आणि द्रांक्ष उत्पादन करणारा शेतकरी मोठ्या आर्थिक कोंडीत सापडला आहे. सोबतच यामुळे कांदा उत्पादक शेतकरी अडचणीत आला असून, उत्पादन कमी होणार आहेत. RAIN IN NASHIK

Read – महाराष्ट्रात अंदाजे २० लाख हेक्टर सोयाबीन,धान, कापुस , तुर,भाजीपाला, बागायतीचे नुकसान

Heavy rain Nashik
नाशिक सोबत पूर्ण राज्यात [परत पावसाची शक्यता

बंगाल की खाड़ी पर बना निम्न दबाव का क्षेत्र प्रभावी होते हुए अब गहरे निम्न दबाव के क्षेत्र में तब्दील हो गया है। मंगलवार, 29 अक्टूबर को यह कोमोरिन क्षेत्र पर है और आज रात या कल सुबह तक यह सिस्टम डिप्रेशन का रूप ले सकता है।

यह मौसमी सिस्टम शुरू में उत्तर-पश्चिम दिशा में चलता रहेगा। दक्षिण-पूर्वी अरब सागर पर पहुंचे कर यह और शक्तिशाली बन सकता है क्योंकि इसे समुद्र में परिस्थितियां अनुकूल मिलने वाली हैं। समुद्र की सतह का तापमान 29-30 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहेगा और विंड शीयर भी लो है।

यानि इस साल अरब सागर में चौथा चक्रवात बनने के लिए पूरी तरह तैयार है। अगर यह चक्रवाती तूफान बनता है तो इसका नाम होगा ‘महा’। वायु, हिका और क्यार के बाद अरब सागर में यह चौथा चक्रवात होगा।

अरब सागर की तुलना में बंगाल की खाड़ी में आमतौर पर चक्रवातों की संख्या अधिक होती है। हालांकि, इस साल स्थिति अलग है। अरब सागर में पहले से ही तीन चक्रवात बन चुके हैं और चौथा शीघ्र ही बनने के लिए तैयार है।

ReaD : नुकसानग्रस्त झालेल्या शेतकर्‍यांच्या पिकांचे तात्काळ पंचनामे करा भरपाई द्या – भुजबळ

अरब सागर में अधिक चक्रवात बनने का कारण सकारात्मक इंडियन ओशन डायपोल को जिम्मेदार माना जा सकता है। यह आमतौर पर कम ही होता है कि आईओडी इतने लंबे समय तक सकारात्मक और सक्रिय रहे जिससे समुद्री की सतह का तापमान चक्रवात बनने के लिए अनुकूल बना रहे।

चक्रवात ‘महा’ अरब सागर में बनने के लिए पूरी तरह तैयार है। इस तूफान के भी वर्तमान सुपर साइक्लोन क्यार के रास्ते पर ही चलने की संभावना है। यानि कि संभावित चक्रवाती तूफान महा भी पश्चिम दिशा में यमन या ओमान तट की ओर जा सकता है।

इसका सीधा असर भारत के मुख्य भू-भाग पर पड़ने की आशंका फिलहाल नहीं है। हालांकि चक्रवात का रूप लेने से पहले यह सिस्टम अगले कुछ दिनों में, तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक के साथ-साथ लक्षद्वीप में भारी से अति भारी बारिश देता रहेगा।

Read : अवकाळी पावसाने जिल्ह्याला झोडपले ,शेतीचे आतोनात नुकसान

तमिलनाडु, केरल और कर्नाटक तटों के पास समुद्र में कम से कम 15 फीट ऊंची लहरें उठने और तेज़ हवाएँ चलने की संभावना है।

Image credit: Thenewsminute

साभार: skymetweather.com 

Share this with your friends and family

You May Also Like

2 thoughts on “२४ ते ४८ तासात नाशिक सह राज्यात पुन्हा जोरदार पावसाची शक्यता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: तूर्तास तुम्ही हा मजकूर कॉपी करू शकत नाही. क्षमस्व.